समर्थक

Monday, September 1, 2014

""पारसमणि" में मेरी बालकविता "पाठशाला" का राजस्थानी में अनुवाद"

हनुमानगढ़ (राजस्थान) से प्रकाशित पत्रिका 
"पारसमणि" में मेरी बालकविता 
"पाठशाला" 
का राजस्थानी में अनुवाद प्रकाशित हुआ है।
अनुवादक है पं. दीनदयाल शर्मा।
Photo: हनुमानगढ़ (राजस्थान) से प्रकाशित पत्रिका 
"पारसमणि" में मेरी बातकविता 
"पाठशाला" 
का राजस्थानी में अनुवाद प्रकाशित हुआ है।
अनुवादक है पं. दीनदयाल शर्मा।

5 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. क्या बात वाह! बधाई शास्त्री जी

    ReplyDelete
  3. उम्दा ..बच्चे मन के सच्चे ..जो समाज इन्हें देता है वही लौटायेंगे बड़े होकर

    ReplyDelete
  4. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    ebook publisher

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।