समर्थक

Saturday, May 9, 2020

बालगीत "गुलमोहर पर छाई लाली" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
लाल रंग के सुमन सुहाते।
लोगों को हैं खूब लुभाते।।
--
रूप अनोखा, गन्ध नहीं है,
कागज-कलम निबन्ध नहीं है,
उपवन से सम्बन्ध नहीं है,
गरमी में हैं खिलते जाते।
लोगों को हैं खूब लुभाते।।
--
भँवरों की गुंजार नहीं है,
शीतल-सुखद बयार नहीं है,
खिलने का आधार नहीं है,
केवल लोकाचार निभाते।
लोगों को हैं खूब लुभाते।।
--
कुदरत की है शान निराली,
गुलमोहर पर छाई लाली,
वनमाली करता रखवाली,
पथिक तुम्हारी छाया पाते।
लोगों को हैं खूब लुभाते।। 
--

6 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा रविवार(१०-०५-२०२०) को शब्द-सृजन- २० 'गुलमोहर' (चर्चा अंक-३६९७) पर भी होगी।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  2. सुंदर सृजन सर ,गुलमोहर को देख खिलखिलाते बचपन का ही एहसास होता हैं, सादर नमन

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर बालगीत...
    वाह!!!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर सृजन।
    सुंदर बाल गीत।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर बालगीत .

    ReplyDelete
  6. I want you, all of you. I want to feel you inside me, deep inside me. I want you to tell me when you’re going to cum, hear you moan my name and fuck me harder. Click here and Check me out i am getting naked here ;)

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।