समर्थक

Friday, July 24, 2020

बालकविता "हरियाली तीज" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 
--
अब हरियाली तीज आ रही,
मम्मी मैं झूलूँगी झूला।
देख फुहारों को बारिश की,
मेरा मन खुशियों से फूला।।
--
कई पुरानी भद्दी साड़ी,
बहुत आपके पास पड़ी हैं।
इतने दिन से इन पर ही तो,
मम्मी मेरी नजर गड़ी हैं।।
--
इन्हें ऐंठकर रस्सी बुन दो,
मेरा झूला बन जाएगा।
मैं बैठूँगी बहुत शान से,
भइया मुझे झुलायेगा।।
--

3 comments:

  1. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  2. वाह!!!
    बहुत ही सुन्दर बाल कविता।

    ReplyDelete
  3. बेहद खूबसूरत रचना

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।