समर्थक

Tuesday, November 5, 2013

"चिल्लाया है कौआ" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 अपनी बालकृति 
अपनी बालकृति "हँसता गाता बचपन" से
बालकविता
"चिल्लाया है कौआ"
स्वर अर्चना चावजी का

काले रंग का चतुर-चपल,
पंछी है सबसे न्यारा।
डाली पर बैठा कौओं का, 
जोड़ा कितना प्यारा।

नजर घुमाकर देख रहे ये,
कहाँ मिलेगा खाना।
जिसको खाकर कर्कश स्वर में,
छेड़ें राग पुराना।।

काँव-काँव का इनका गाना,
सबको नहीं सुहाता।
लेकिन बच्चों को कौओं का,
सुर है बहुत लुभाता।।

कोयलिया की कुहू-कुहू,
बच्चों को रास न आती।
कागा की प्यारी सी बोली, 
इनका मन बहलाती।।

देख इसे आँगन में,
शिशु ने बोला औआ-औआ।
खुश होकर के काँव-काँवकर,
चिल्लाया है कौआ।।

4 comments:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. शुभप्रभात
    बेहतरीन
    सादर

    ReplyDelete
  3. काले रंग का चतुर-चपल,
    पंछी है सबसे न्यारा।
    डाली पर बैठा कौओं का,
    जोड़ा कितना प्यारा।


    बहत सुन्दर बालगीत है।अर्थ और भाव दोनों बढ़िया।

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।