समर्थक

Saturday, February 1, 2014

"श्यामपट" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

अपनी बालकृति 
"हँसता गाता बचपन" से
बालकविता
"श्यामपट" 
SHIYAMPAT
तीन टाँग के ब्लैकबोर्ड की,
मूरत कितनी प्यारी है।

कोकिल जैसे इस स्वरूप की,
सूरत जग से न्यारी है।

कालचक्र में बदल गया सब,
पर तुम अब भी चमक रहे हो।
समयक्षितिज पर ध्रुवतारा बन,
नित्य नियम से दमक रहे हो।

बना हुआ अस्तित्व तुम्हारा
राम-श्याम बन रमे हुए हो।
विद्यालय हों या दफ्तर हों
सभी जगह पर जमे हुए हो।

रंग-रूप सबने बदला है
तुम काले होवही पुराने। 
जग को पाठ पढ़ानेवाले
लगते हो जाने पहचाने।

अपने श्यामल तन पर तुम
उज्जवल सन्देश दिखाते हो। 
भूले-भटके राही को तुम
पथ और दिशा बताते हो।

हिन्दी और विज्ञान-गणित
या अंग्रेजी के हों अक्षर। 
नन्हें सुमनों को सिखलाते
ज्ञान तुम्ही हो जी भरकर। 

गुण और ज्ञान बालकों के,
 मन में इससे भर जाता। 
श्यामपटल अध्यापकगण को
सबसे अधिक सुहाता।

2 comments:

  1. काफी उम्दा प्रस्तुति.....
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (02-02-2014) को "अब छोड़ो भी.....रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1511" पर भी रहेगी...!!!
    - मिश्रा राहुल

    ReplyDelete
  2. bahut sundar ......kavi kahi se bhi kavita ki rachna kar hi lete hain ...

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।