समर्थक

Wednesday, March 19, 2014

"स्लेट और तख़्ती" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

अपनी बालकृति 
"हँसता गाता बचपन" से
स्लेट और तख़्ती
slate00
patti1
दादी कहती एक कहानी,
बीत गई सभ्यता पुरानी,
लकड़ी की पाटी होती थी,
बची न उसकी कोई निशानी।। 
IMG_1104
फाउण्टेन-पेन गायब हैं,
जेल पेन फल-फूल रहे हैं।
रीत पुरानी भूल रहे हैं,
नवयुग में सब झूल रहे हैं।।

समीकरण सब बदल गये हैं,
शिक्षा का पिट गया दिवाला।
बिगड़ गये परिवेश प्रीत के,
बिखर गई है मंजुल माला।।

3 comments:

  1. bachpan ki takhti or slate slati ki yaad tazi kar di Sir ji aap ne..sulekh likhna fir gachi(multani mitti se saaf karna) Eco friendly yani sub kuch prakriti ki den or prakriti ko hi vapis kardena or yeh sub koi bhi apne dularo ko dila sakta tha ...pr ab to competition jyada hai prakriti ko nasht karne ka but silently ...

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 20-03-2014 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार

    ReplyDelete
  3. बि‍ल्‍कु ल सही कहा...सारी परि‍पाटी बदल रही है

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।